धनतेरस 2017 शुभ महूर्त पूजा विधि और महत्व

धनतेरस की महत्वपूर्ण पूजा विधि व शुभ महूर्त

धनतेरस 2017 : दिवाली भारत के प्रमुख महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक त्योहार है। दिवाली त्योहार का आरंभ धनतेरस से होता है। पांच दिनों तक चलने वाले इस त्योहार के पहले दिन धन तेरस मनाया जाता है। कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। धन्वन्तरी जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथो में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वन्तरी कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। इस साल यह पर्व 17 अक्तूबर 2017 को मनाया जा रहा है। धन तेरस के दिन धन के देवता कुबेर और मृत्यदेव यमराज की पूजा-अर्चना को विशेष महत्त्व दिया जाता है। इस दिन को धनवंतरि जयंती के नाम से भी जाना जाता है।

धनतेरस पूजा विधि शुभ मुहर्त

धनत्रयोदशी या धनतेरस के दौरान लक्ष्मी पूजा को प्रदोष काल के दौरान किया जाना चाहिए जो कि सूर्यास्त के बाद प्रारम्भ होता है और लगभग 2घण्टे 24 तक रहता है।

धनतेरस पूजा मुहूर्त = 19:27 से 20:49
अवधि = 1 घण्टा 22 मिनट्स
प्रदोष काल = 18:20 से 20:49
वृषभ काल = 19:27 से 21:11

धनतेरस के दौरान लक्ष्मी पूजा को प्रदोष काल के दौरान किया जाना चाहिए जो कि सूर्यास्त के बाद प्रारम्भ होता है और लगभग २ घण्टे २4 मिनट तक रहता है।

धनतेरस की कथा

एक और कथा के अनुसार एक समय भगवान विष्णु द्वारा श्राप दिए जाने के कारण देवी लक्ष्मी को तेरह वर्षों तक एक किसान के घर पर रहना था। माँ लक्ष्मी के उस किसान के रहने से उसका घर धन-समाप्ति से भरपूर हो गया। तेरह वर्षों उपरान्त जब भगवान विष्णु माँ लक्ष्मी को लेने आए तो किसान ने माँ लक्ष्मी से वहीँ रुक जाने का आग्रह किया। इस पर देवी लक्ष्मी ने कहा किसान से कहा कि कल त्रयोदशी है और अगर वह साफ़-सफाई कर, दीप प्रज्वलित करके उनका आह्वान करेगा तो किसान को धन-वैभव की प्राप्ति होगी। जैसा माँ लक्ष्मी ने कहा, वैसा किसान ने किया और उसे धन-वैभव की प्राप्ति हुई। तब से ही धनतेरस के दिन लक्ष्मी पूजन की प्रथा प्रचलित हुई।

 

धनतेरस पर धनवंतरि की पूजा विधि :

धनतेरधनतेरस पूजा विधिस पूजा विधि

धनवंतरि की पूजा : धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरि की मूर्ति या चित्र साफ स्थान पर पूर्व दिशा की ओर स्थापित करें और फिर भगवान धनवंतरि का आह्वान निम्न मंत्र से करें-

सत्यं च येन निरतं रोगं विधूतं,अन्वेषित च सविधिं आरोग्यमस्य।
गूढं निगूढं औषध्यरूपं, धनवंतरिं च सततं प्रणमामि नित्यं।।

इसके बाद पूजन स्थल पर चावल चढ़ाएं और आचमन के लिए जल छोड़े। भगवान धनवंतरि के चित्र पर गंध, गुलाब के पुष्प तथा रोली, आदि चढ़ाएं। चांदी के पात्र में खीर का नैवेद्य लगाएं। अब दोबारा आचमन के लिए जल छोड़ें। मुख शुद्धि के लिए पान, लौंग, सुपारी चढ़ाएं। धनवंतरि को वस्त्र (मौली) अर्पण करें। अब भगवान धनवंतरि को श्रीफल व दक्षिणा चढ़ाएं। अब दोबारा आचमन के लिए जल छोड़ें। रोगनाश की कामना के लिए इस मंत्र का जाप करें- ऊँ रं रूद्र रोगनाशाय धन्वन्तर्ये फट्।।

धनतेरस पर कुबेर की पूजा

कुबेर की पूजा : धनतेरस पर धन के देवता भगवान् कुबेर को प्रसन्न कर धनवान बन सकते हैं। यदि कुबेर आप पर प्रसन्न हो गए तो आप के जीवन में धन-वैभव की कोई कमी नहीं रहेगी। कुबेर को प्रसन्न करना बेहद आसान है। धन-सम्पति की प्राप्ति हेतु घर के पूजास्थल में एक दीया जलाएं। मंत्रोचार के द्वारा आप कुबेर को प्रसन्न कर सकते हैं। इसके लिए जातक, कुबेर यंत्र के सामने विशेष मंत्रो का उच्चारण 108 बार करें। यह उपासना धनतेरस से लेकर दिवाली तक की जाती है। ऐसा करने से जीवन में किसी भी प्रकार का अभाव नहीं रहता, दरिद्रता का नाश होता है और व्यापार में वृद्धि होती है।

 

You Must Read

शुभ दिवाली पर शायरी बधाई संदेस व दीपावली की हार्दि... दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं बधाई शायरी संदेस  प्यार के जुगनू जले, प्यार की हो फुलझड़िया प्य...
Raksha Bandhan festival Hearty Best wishes Message... रक्षाबंधन त्योहार पर हार्दिक शुभकामनाएं मेसेज और सायरी रक्षाबंधन त्योहार पर हार्दिक शुभकामनाएं मे...
KARWA CHAUTH Wishes Moonrise time 2017 चंद्रोदय टा... करवा चोथ 8 अक्टूबर 2017 हैं इस दिन महिलाये अपनी सहलियों के पास वह अपने पति या प्रेमी को शुभकामनाये द...
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं एव... श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एव शुभकामनाएं श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक बधाई ए...
स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त वतन-परस्ती देश-भक्ति शायर... स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त देश भक्ति शायरी 15 अगस्त पर स्वतंत्रता सेनानियों के क्रांतिकारी नारे ...
2 October Gandhi Jayanti Geet And Kavita गांधी जयंती Gandhi Jayanti या महात्मा गाँधी जयंती भारत में हर साल 2 अक्टूबर को मनाया जाता है इस दिन ...
Ram Navami 2017 Date Birth Story of Lord Rama, Story of Shree Ram Navami 2017 रामनवमी 2017 चैत्र शुक्ल पक्ष नवमी बुधवार 5 अप्रेल 2017 रामनवमी को र...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *