Vijaydashmi Dashahera 2017 Date Subh Muhrat katha

दशहरा 2017 पर्व तिथि शुभ मुहूर्त कथा

(शनिवार) 30 सितंबर 2017,

विजय मुहूर्त = 14:48 से 15:34
अवधि = 0 घण्टे 46 मिनट्स
अपराह्न पूजा का समय = 14:01 से 16:20
अवधि = 2 घण्टे 18 मिनट्स
दशमी तिथि प्रारम्भ = 29/सितम्बर/2017 को 14:19 बजे
दशमी तिथि समाप्त = 30/सितम्बर/2017 को 16:05 बजे

दशहरा की कथा

पौराणिक मान्यता के अनुसार इस त्यौहार का नाम दशहरा इसलिए पड़ा क्योंकि इस दिन भगवान पुरूषोत्तम राम ने दस सिर वाले आतातायी रावण का वध किया था। तभी से दस सिरों वाले रावण के पुतले को हर साल दशहरा के दिन इस प्रतीक के रूप में जलाया जाता है ताकि हम अपने अंदर के क्रोध, लालच, भ्रम, नशा, ईर्ष्या, स्वार्थ, अन्याय, अमानवीयता एवं अहंकार को नष्ट करें

विजयदशमी दशहरा 2017 पर्व तिथि शुभ मुहूर्त कथा

भारत वर्ष में मनाये जाने वाले त्यौहार किसी न किसी रूप में बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देते हैं लेकिन असल में जिस त्यौहार को इस संदेश के लिये जाना जाता है दशहरा। दीवाली से ठीक बीस दिन पहले। पंचाग के अनुसार आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को विजयदशमी अथवा दशहरे के रुप में देशभर में मनाया जाता है दशहरा हिंदूओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है यह त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है जिन्होंनें लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त करवाया वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार भी किया था इसलिये भी इसे विजयदशमी के रुप में मनाया जाता है और मां दूर्गा की पूजा भी की जाती है माना जाता है कि भगवान श्री राम ने भी मां दूर्गा की पूजा कर शक्ति का आह्वान किया था भगवान श्री राम की परीक्षा लेते हुए पूजा के लिये रखे गये कमल के फूलों में से एक फूल को गायब कर दिया। चूंकि श्री राम को राजीवनयन यानि कमल से नेत्रों वाला कहा जाता था इसलिये उन्होंनें अपना एक नेत्र मां को अर्पण करने का निर्णय लिया ज्यों ही वे अपना नेत्र निकालने लगे देवी प्रसन्न होकर उनके समक्ष प्रकट हुई और विजयीहोने का वरदान दिया। माना जाता है इसके पश्चात दशमी के दिन प्रभु श्री राम ने रावण का वध किया। भगवान राम की रावण पर और माता दुर्गा की महिषासुर पर जीत के इस त्यौहार को बुराई पर अच्छाई और अधर्म पर धर्म की विजय के रुप में देशभर में मनाया जाता है देश के अलग-अलग हिस्सों में इसे मनाने के अलग अंदाज भी विकसित हुए हैं कुल्लू का दशहरा देश भर में काफी प्रसिद्ध है तो पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा सहित कई राज्यों में दुर्गा पूजा को भी इस दिन बड़े पैमाने पर मनाया जाता है

You Must Read

Shekhawati University PDUSU Sikar BA 1st And 2nd Y... Pandit Deendayal Upadhyaya Shekhawati University Sikar has successfully completed the examination of...
Indian Geography Questions and Answers for Competi... Here are some questions and answers for different examinations. Which you can read online and downlo...
MDSU Rajasthan Pre-Teacher Education Test (PTET) A... Good news for the all applicants who are waiting for MAHARSHI DAYANAND SARASWATI UNIVERSITY(MDSU )Ra...
BSER Rajasthan Borad of Secondary Education 12th A... The Rajasthan Borad of Secondary Education RBSE 12th (Arts) Results 2017 is likely to be declared to...
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं शुभ दीपावली शायरी सं... दीपावली के अवसर पर महत्व पूर्ण पूजनीय फोटो वालपेपर इस वर्ष दिपावली का त्यौहार 19 अक्तूबर 2017 को हर...
BSER Board 10th Result 2017 माध्यमिक शिक्षा बोर्ड... माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान अजमेर 2017 की परीक्षा सफलता पूरक पूर्ण हो चुकी है | दोस्तों राजस्थान ...
Diwali 2017 Subh Muhrat Puja Vidhi Importence Diwali 2017 Subh Muhrat Puja Vidhi : धनतेरस: मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017 नरक चतुर्दशी (छोटी दीवाली): ब...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *