Essay on swachh bharat abhiyan and Information slogan in Hindi

Swachh Bharat Mission स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा संचालित किया गया एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है |जिसका का मुख्य उद्देश्य गांवों शहरो की गलियों, सड़कों तथा मुख्य मार्गो को साफ-सुथरा रखना है। राष्ट्रीय स्तर यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्मदिवस 02 अक्टूबर 2014 को शुरु किया गया था । यहाँ सन्देश महात्मा गांधी ने अपने क्षेत्र के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था।

स्वच्छ भारत अभियान क्या है

स्वच्छ भारत अभियान सम्पूर्ण भारत को स्वच्छ बनाने के लक्ष्य के साथ साथ नई दिल्ली के राजघाट पर 02 अक्दूबर 2014 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा इस अभियान की शुरुआत की गई थी ।स्वच्छ भारत अभियान का लक्ष्य यह की 02 अक्दूबर 2019 तक हर घर परिवार को शौचालय सहित स्वच्छता सुविधा उपलब्ध कराना है, भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को उनके 150वें जन्मदिवस पर सबसे उपयुक्त श्रद्धांजलि के रूप में होगी। ये बहुत महत्वपूर्ण है कि इस अभियान को सफल बनाने के लिये भारत के प्रधानमंत्री स्वयं अग्रसक्रिय भूमिका निभा रहे है; राजघाट पर भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने खुद सड़कों को साफ कर स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की। ये अभियान केवल भारत सरकार का कर्तव्य नहीं है बल्कि राष्ट्र को स्वच्छ बनाने की की जिम्मेदारी इस देश के सभी नागरिकों की है ।

स्वच्छ भारत अभियान

हाल ही में भारत में नई सरकार सत्ता में आई है जिसका मुख्य उदेश्य भारत को स्वच्छ करने का है। और इसी लक्ष्य के लिये सरकार ने एक अभियान की शुरुआत की जिसका नाम है “स्वच्छ भारत अभियान”।

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य

स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर 2019 तक भारत सरकार द्वारा कई लक्ष्यों को पूरा करने के लिये स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की गई |जो कि महात्मा गाँधी का 150वाँ जन्म दिवस होगा।

1. भारत में खुले में मलत्याग की व्यवस्था को खत्म करना ।
2. अस्वास्थ्यकर शौचालयों को बहाने वाले शौचालयों में बदलना।
3. हाथों से मल की सफाई करने की व्यवस्था को हटाना।
4. अच्छे स्वास्थ्य के विषय में जागरुक करना।
5. सार्वजनिक स्वास्थय और साफ-सफाई के कार्यक्रम से लोगों को जोड़ना।
6. साफ-सफाई से संबंधित सभी शहरी स्थानीय निकाय को मजबूत बनाना।
7. वातावरण और स्वच्छता अभियान से संबंधित खर्च उपलब्ध कराना।

शहरी क्षेत्रों के लिए स्वच्छ भारत अभियान

अभियान का मुख्य उद्देश्य 1.04 करोड़ परिवारों को लक्षित करते हुए 2.5 लाख समुदायिक शौचालय, 2.6 लाख सार्वजनिक शौचालय, और प्रत्येक शहर में एक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की सुविधा प्रदान करना है।स्वच्छ भारत अभियान के तहत आवासीय क्षेत्रों में जहाँ घरेलू शौचालयों का निर्माण करना मुश्किल होता है वहाँ सामुदायिक शौचालयों का निर्माण करना। पर्यटन स्थलों, बाजारों, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशनों जैसे प्रमुख स्थानों पर भी सार्वजनिक शौचालय का निर्माण किया जाएगा। यह कार्यक्रम पाँच साल अवधि में 4401 शहरों में लागू किया जाएगा। कार्यक्रम पर खर्च किये जाने वाले 62,009 करोड़ रुपये में केंद्र सरकार की तरफ से 14623 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जाएगें। केंद्र सरकार द्वारा प्राप्त होने वाले 14623 करोड़ रुपयों में से 7366 करोड़ रुपये ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर,4,165 करोड़ रुपये व्यक्तिगत घरेलू शौचालय पर,1828 करोड़ रुपये जनजागरूकता पर और समुदाय शौचालय बनवाये जाने पर 655 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे। इस कार्यक्रम खुले में शौच, अस्वच्छ शौचालयों को फ्लश शौचालय में परिवर्तित करने, मैला ढ़ोने की प्रथा का उन्मूलन करने, नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और स्वस्थ एवं स्वच्छता से जुड़ीं प्रथाओं के संबंध में लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाना आदि शामिल हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों के लिए स्वच्छ भारत अभियान

निर्मल भारत अभियान कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा ग्रामीण क्षेत्र में लोगों के लिए माँग आधारित एवं जन केन्द्रित अभियान है, जिसमें लोगों की स्वच्छता सम्बन्धी आदतों को बेहतर बनाना, स्व सुविधाओं की माँग उत्पन्न करना और स्वच्छता सुविधाओं को उपलब्ध करना, जिससे ग्रामीणों के जीवन स्तर को बेहतर बनाया जा सके।

अभियान का उद्देश्य पांच वर्षों में भारत को खुला शौच से मुक्त देश बनाना है। अभियान के तहत देश में लगभग 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों के निर्माण के लिए एक लाख चौंतीस हज़ार करोड़ रुपए खर्च किये जाएंगे। बड़े पैमाने पर प्रौद्योगिकी का उपयोग कर ग्रामीण भारत में कचरे का इस्तेमाल उसे पूंजी का रूप देते हुए जैव उर्वरक और ऊर्जा के विभिन्न रूपों में परिवर्तित करने के लिए किया जाएगा। अभियान को युद्ध स्तर पर प्रारंभ कर ग्रामीण आबादी और स्कूल शिक्षकों और छात्रों के बड़े वर्गों के अलावा प्रत्येक स्तर पर इस प्रयास में देश भर की ग्रामीण पंचायत,पंचायत समिति और जिला परिषद को भी इससे जोड़ना है।

अभियान के एक भाग के रूप में प्रत्येक पारिवारिक इकाई के अंतर्गत व्यक्तिगत घरेलू शौचालय की इकाई लागत को 10,000 से बढ़ा कर 12,000 रुपये कर दिया गया है और इसमें हाथ धोने,शौचालय की सफाई एवं भंडारण को भी शामिल किया गया है। इस तरह के शौचालय के लिए सरकार की तरफ से मिलने वाली सहायता 9,000 रुपये और इसमें राज्य सरकार का योगदान 3000 रुपये होगा। जम्मू एवं कश्मीर एवं उत्तरपूर्व राज्यों एवं विशेष दर्जा प्राप्त राज्यों को मिलने वाली सहायता 10800 होगी जिसमें राज्य का योगदान 1200 रुपये होगा। अन्य स्रोतों से अतिरिक्त योगदान करने की स्वीकार्यता होगी।

स्वच्छ भारत स्वच्छ विद्यालय अभियान

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान केन्द्रीय 25 सितंबर, 2014 से 31 अक्टूबर 2014 के बीच केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालय संगठन में आयोजित किया जा रहा है। इस दौरान की जाने वाली मुख्य गतिविधियों शामिल हैं-

1. स्कूल कक्षाओं के दौरान प्रतिदिन बच्चों के साथ सफाई और स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर विशेष रूप से महात्मा गांधी की स्वच्छता और अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ीं शिक्षाओं के बारे में बात करें।
2. कक्षा, प्रयोगशाला और पुस्तकालयों आदि की सफाई करना।
3. स्कूल में स्थापित किसी भी मूर्ति या स्कूल की स्थापना करने वाले व्यक्ति के योगदान के बारे में बात करना और इस मूर्तियों की सफाई करना।
4. शौचालयों और पीने के पानी वाले क्षेत्रों की सफाई करना।
5. रसोई और सामान ग्रह की सफाई करना।
6. खेल के मैदान की सफाई करना
7. स्कूल बगीचों का रखरखाव और सफाई करना।
8. स्कूल भवनों का वार्षिक रखरखाव रंगाई एवं पुताई के साथ।

Selected public figures

  • Sachin Tendulkar
  • Priyanka Chopra
  • Anil Ambani
  • Baba Ramdev
  • Salman Khan
  • Shashi Tharoor
  • Mridula Sinha
  • Kamal Hasan
  • Virat Kohli
  • Mahendra Singh Dhoni
  • Anushka Sharma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *