December 10, 2016
Latest News Update

स्वच्छ भारत अभियान पर , निबंध,कविता,Slogen और स्वच्छता का महत्व

स्वच्छतेचे महत्व,

स्वच्छतेचे महत्व मराठी,
swachateche mahatva,
स्वच्छता अभियान पर नारे,
स्वच्छ भारत पर स्लोगन,
स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध,

स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत पर भाषण,

स्वच्छ भारत सुंदर भारत मराठी निबंध,

स्वच्छता भारत अभियान – swachh bharat Mission

स्वच्छ भारत अभियान, भारत सरकार द्वारा आरम्भ किया गया राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जिसका उद्देश्य गलियों, सड़कों तथा नालियो को साफ-सुथरा करना है। यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्मदिवस 2 अक्टूबर 2014 को आरम्भ किया गया था ।महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था | इस बात को ध्यान में रखते हुए मोदी सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान पर जोर दिया | सरकार का उद्देश्य हमारे देश को स्वच्छ,साफ सुथरा,और सुंदर भारत बनाने का हैं | इसलिय –

देश के सभी युवाओ और नोंजवानो से – Rkalert.com – Team की तरफ से निवेदन हैं की अपने आस पास का वातावरण साफ सुथरा रखे, गंदजी न होने दे | जिससे हम और हमारा परिवार और बच्चे और हमारा पूरा भारत देश स्वस्थ और बीमारी मुक्त रहेगा | और हम लोग एक स्वस्थ जीवन जी सकेगे | यही भारत सरकार का नारा हैं,और इस अभियान को हमे जारी रखना हैं

स्वच्छतेचं महत्त्व – swachateche mahatva

आयुष्यात स्वच्छतेचे महत्त्व किती आहे हे तुम्हाला अनेक वेळा सांगितले जाते. तुम्हीही स्वतः या गोष्टींचा अनुभव घेतला असेल. देहाची स्वच्छता ठेवली की मन प्रसन्न होते, घर, परिसर स्वच्छ ठेवली की मन प्रसन्न होते. आपले घर, परिसर स्वच्छ ठेवणे हे प्रत्येक माणसाचे कर्तव्य आहे. त्यामुळे रोगराई पसरत नाही हे तुम्ही विज्ञानाच्या पुस्तकात अनेकदा वाचले असेल.

स्वच्छ भारत स्वच्छ विद्यालय अभियान – swachh Bharat School Mission

स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालय संगठन में आयोजित किया जा रहा है। इस दौरान की जाने वाली गतिविधियों निम्न हैं –

1. स्कूल कक्षाओं के दौरान प्रतिदिन बच्चों के साथ सफाई और स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर SBAविशेष रूप से महात्मा गांधी की स्वच्छता और अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ीं शिक्षाओं के संबंध में बात करें।
2. कक्षा, प्रयोगशाला और पुस्तकालयों आदि की सफाई करना।
3. स्कूल में स्थापित किसी भी मूर्ति या स्कूल की स्थापना करने वाले व्यक्ति के योगदान के बारे में बात करना और इस मूर्तियों की सफाई करना।
4. शौचालयों और पीने के पानी वाले क्षेत्रों की सफाई करना।
5. रसोई और सामान ग्रह की सफाई करना।
6. खेल के मैदान की सफाई करना
7. स्कूल बगीचों का रखरखाव और सफाई करना।
8. स्कूल भवनों का वार्षिक रखरखाव रंगाई एवं पुताई के साथ।
9. निबंध,वाद-विवाद, चित्रकला, सफाई और स्वच्छता पर प्रतियोगिताओं का आयोजन।
10. बाल मंत्रिमंडलों का निगरानी दल बनाना और सफाई अभियान की निगरानी करना।
इसके अलावा, फिल्म शो, स्वच्छता पर निबंध / पेंटिंग और अन्य प्रतियोगिताएं, नाटकों आदि के आयोजन द्वारा स्वच्छता एवं अच्छे स्वास्थ्य का संदेश प्रसारित करना। मंत्रालय ने इसके अलावा स्कूल के छात्रों, शिक्षकों, अभिभावकों और समुदाय के सदस्यों को शामिल करते हुए सप्ताह में दो बार आधे घंटे सफाई अभियान शुरू करने का प्रस्ताव भी रखा है।

स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत पर भाषण – swachh Bharat Healthy Bharat on Bhashan

स्वच्छ भारत अभियान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाया गया भारत सरकार का एक एक राष्ट्रव्यापी सफाई अभियान है। जिसकी शुरुवात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा महात्मा गांधी के 145 वें जन्मदिन के अवसर पर 2 अक्टूबर 2014 को की गयी थी| यह अभियान पूरे भारत में सफाई के उद्देश्य को पूरा करने के लिए शुरू किया गया है। प्रधानमंत्री ने लोगो से अपील की है की वो स्वच्छ भारत मिशन से जुड़े और अन्य लोगो को भी इससे जुड़ने की प्रेरित करे ताकि हमारा देश दुनिया का सबसे अच्छा और स्वच्छ देश बन सके| इस अभियान की शुरुवात स्वयं नरेंद्र मोदी ने सड़क की सफाई कर के की थी|

स्वच्छ भारत अभियान भारत ka सबसे बड़ा सफाई अभियान है जिसके शुभारम्भ पर लगभग 30 लाख स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों और सरकारी कर्मचारियों ने भाग लिया। शुभारंभ के दिन प्रधानमंत्री ने नौ हस्तियों के नामो की घोषणा की और उनसे अपने क्षेत्र में सफाई अभियान को बढाने और आम जनता को उससे जुड़ने के लिए प्रेरित करने को कहा| उन्होंने यह भी कहा कि इन हस्तियों को अगले 9 लोगो को इससे जुड़ने के लिए प्रेरित करना है और ये शृंखला तब तक चलेगी जब तक की पुरे भारत तक इसका सन्देश न पहुंच जाये|

उन्होंने यह भी कहा कि हर भारतीय इसे एक चुनौती के रूप में ले और इसे सफल अभियान बनाने के लिए अपना पूरा प्रयास करे। नौ लोगों की श्रृंखला पेड़ की एक शाखाओं की तरह है। उन्होंने आम जनता को इससे जुड़ने के लिए अनुरोध किया और कहा की वे सफाई की तस्वीर सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, ट्विटर व अन्य वेबसाइट पर डालें और अन्य लोगो को भी इससे जुड़ने के लिए प्रेरित करे। इस तरह भारत एक स्वच्छ देश हो सकता है।

स्वच्छता पर निबंध – Essay on Clining

स्वच्छता एक अच्छी आदत है जो हम सभी के लिये बहुत जरुरी है और हमारे स्वास्थ्य के लिय अत्यंत लाभकारी हैं | अपने घर, पालतू जानवर, अपने आस-पास, पर्यावरण, तालाब, नदी, स्कूल आदि सहित स्वच्छता एक आदत है खुद को शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वच्छ रखने की। हमें हर समय अपने आपको शुद्ध, स्वच्छ और अच्छे से कपड़े पहन कर रहना चाहिये। ये समाज में अच्छे व्यक्तित्व और प्रभाव को बनाने में मदद करता है क्योंकि ये आपके अच्छे चरित्र को दिखाता है। धरती पर हमेशा के लिये जीवन को संभव बनाने के लिये अपने शरीर की सफाई के साथ पर्यावरण और प्राकृतिक संसाधनों को भी बनाए रखना चाहिये।स्वच्छता हमें मानसिक, शारीरिक, सामाजिक और बौद्धिक हर तरीके से स्वस्थ बनाता है। सामान्यत:, हमने हमेशा अपने घर में ये ध्यान दिया है कि हमारी दादी और माँ पूजा से पहले स्वच्छता को लेकर बहुत सख्त होती है, ये कोई अलग बात नहीं है, वो बस साफ-सफाई को हमारी आदत बनाना चाहती है। लेकिन वो गलत तरीका अपनाती है क्योंकि वो स्वच्छता के उद्देश्य और फायदे को नहीं बताती है इसी वजह से हमें स्वच्छता का अनुसरण करने में समस्या आती है। हर अभिवावक को तार्किक रुप से स्वच्छता के उद्देश्य, फायदे और जरुरत आदि के बारे में अपने बच्चों से बात करनी चाहिये। उन्हे जरुर बताना चाहिये कि स्वच्छता हमारे जीवन में खाने और पानी की तरह पहली प्राथमिकता है।

अपने भविष्य को चमकदार और स्वस्थ बनाने के लिये हमें हमेशा खुद का और अपने आसपास के पर्यावरण का ख्याल रखना चाहिये। हमे साबुन से नहाना, नाखुनों को काटना, साफ और इस्त्री किये हुए कपड़े आदि कार्य रोज करना चाहिये। घर को कैसे स्वच्छ और शुद्ध बनाए ये हमें अपने माता-पिता से सीखना चाहिये। हमें अपने आसपास के वातावरण को साफ रखना चाहिये ताकि किसी प्रकार की बीमारी न फैले। कुछ खाने से पहले और खाने के बाद साबुन से हाथ धोना चाहिये। हमें पूरे दिन साफ और शुद्ध पानी पीना चाहिये, हमें बाहर के खाने से बचना चाहिये साथ ही ज्यादा मसालेदार और तैयार पेय पदार्थों से परहेज करना चाहिये।

स्वच्छतेचे महत्व निबंध मराठी – Swachateche Mahatva marathee Nibandh

स्वच्छता एक चांगली सवय, आम्हाला सर्व फार महत्त्वाची आहे आणि आमच्या आरोग्य पेपर अतिशय उपयुक्त आहेत जे आहे | आपले घर, पाळीव प्राणी, त्यांच्या सभोवतालच्या पर्यावरणावर, तलाव, नदी, शाळा स्वच्छता समावेश स्वत: ला शारीरिक आणि मानसिक स्वच्छ पाळणे एक सवय आहे. आम्हाला स्वतः सर्व वेळ: ला शुद्ध ठेऊ, स्वच्छ आणि चांगले कपडे असणे आवश्यक आहे. बनवून समाजात चांगले व्यक्तिमत्व आणि प्रभाव तो आपल्या चारित्र्य चांगले दाखवते कारण मदत करते. पृथ्वीवर जीवन शक्य करण्यास तो सदैव पर्यावरण आणि नैसर्गिक संसाधने राखण्यासाठी आपल्या शरीरात स्वच्छता तो म्हणाला.स्वच्छता, मानसिक वास्तविक, सामाजिक व बौद्धिक heals प्रत्येक मार्ग.

आम्ही नेहमीच नोंद उपासना घर आमच्या आजी आणि स्वच्छता खूप कडक आई आधी ते भिन्न बाब आहे, उद्भवते, ती फक्त स्वच्छता सवय करू इच्छिते. पण तो स्वच्छता फायदे नाही कारण चुकीचे दृष्टिकोण लागतो आणि अशा प्रकारे आम्ही आमचे ध्येय स्वच्छता खालील अडचणी.

प्रत्येक परवानगी पालक तार्किकदृष्ट्या स्वच्छता, फायदे आणि गरजा उद्देश बद्दल आणि त्यांच्या मुलांना बोलणे आवश्यक आहे. त्याला अवश्य सांगू आवश्यक आहेस्वच्छता, आपल्या जीवनात प्रथम प्राधान्य आहे अन्न आणि पाणी आहे.आपल्या भावी तेजस्वी आणि निरोगी करण्यासाठी, आम्ही नेहमी स्वतःला आणि त्यांच्या सभोवतालच्या पर्यावरणावर काळजी घेणे, तो म्हणाला. आम्ही साबण, नखे सुव्यवस्थित, स्वच्छ आणि ironed कपडे इ दररोज काम केले पाहिजे. स्वच्छ आणि घर स्वच्छ राखण्यासाठी कसे आम्ही त्यांचे आई शिकले पाहिजे. आपण स्वच्छ आसपासच्या वातावरणात ठेवणे आवश्यक आहे, त्यामुळे कोणत्याही रोग पसरला नाही.काही धान्य आधी आणि खाल्ल्यानंतर साबणाने हात धूत पाहिजे. स्वच्छ आणि शुद्ध पाणी दिवस पाणी प्यायला पाहिजे, आम्ही मसालेदार आणि पेय टाळणे तितकी बाहेर खाणे टाळावे करावे.

स्वच्छ भारत मिशन शौचालय निर्माण – Swachh Bhart Toilet Mission

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण एवं लोहिया स्वच्छता योजना के तहत शौचालय निर्माण कराने वाले परिवार को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इस योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करने वाले सभी परिवारों तथा गरीबी रेखा से उपर वाले अनुसूचित जाति-जनजाति, लघु एवं सीमात किसानों, वास भूमि वाले भूमिहीन श्रमिकों, शारीरिक रूप से विकलाग और महिला प्रमुख परिवारों को पारिवारिक शौचालय, जिसमें सफाई एवं हाथ धोने के लिए पानी भंडारण की सुविधा हो, के निर्माण के उपरात 12000 रूपए प्रोत्साहन राशि के रूप में दी जाएगी।

स्वच्छ भारत मिशन योजना – Swachh Bhart Plan Mission

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण योजना का मुख्य उद्देश्य निम्नानुसार है।

1. ग्रामीण क्षेत्रों में सामान्य जीवन स्तर में सुधार करना।

2. देश में सभी ग्राम पंचायतों द्वारा स्वच्छ स्थिति प्राप्त करने के साथ 2019 तक स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के लक्ष्य को हासिल करने के लिए स्वच्छता कवरेज में तेजी लाना।

3. जागरूकता सृजन और स्वास्थ्य शिक्षा के माध्यम से स्थायी स्वच्छता सुविधाओं को बढ़ावा देने वाले समुदायों और पंचायती राज संस्थाओं को प्रोत्साहित करना।

4. पारिस्थितिकीय रूप से सुरक्षित और स्थायी स्वच्छता के लिए किफायती तथा उपयुक्त प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देना।

5. ग्रामीण क्षेत्रों में संपूर्ण स्वच्छता के लिए ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर विशेष ध्यान देते हुए, समुदाय प्रबंधित पर्यावरणीय स्वच्छता पद्धति विकसित करना।

स्वच्छ भारत अभियान पर नारे – SLOGANS ON CLEANLINESS IN HINDI, Nare on Swatchh Bhart Mission

1. सभी रोगों की एक दवाई घर मे रखो साफ सफाई

2. स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत

3. हम सब ने अब ये ठाना हैं, भारत स्वच्छ बनाना है

4. स्वच्छता का दीप जलाएँगे, चारो ओर उजियाला फैलाएँगे

5. हम सब का एक ही नारा, साफ सुथरा हो देश हमारा

6. सफाई अपनाये, बीमारी हटाइये

7. करें हम ऐसा काम, बनी रहेगी देश की शान

8. साफ सुथरा मेरा मन, देश मेरा सुन्दर हो, प्यार फैले सड़को पर, कचरा डिब्बे के अन्दर हो

 

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता – Swatchh Bhart Mission on Kavita

स्वच्छता संकल्प है इसको ग्रहण अब कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

जिस धरा पर जन्म ले जिस अन्न जल से पल रहे,
उस धरा की स्वच्छता के हेतु हम क्या कर रहे?
यह करें चिंतन सदा और कर्म भी कुछ कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

ग़ाँव गलियां स्वच्छ हों मानव स्वयं सब स्वच्छ हों,
स्वच्छ भोजन स्वच्छ पानी से सभी जन स्वस्थ हों।
लक्ष्य है जन जागरण यह प्रण प्रबल अब कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

स्वच्छता सद्कर्म है इसको बनाना धर्म है,
है यही आराधना अपना यही अब कर्म है।
स्वर्ग सी हो यह धरा संकल्प ऐसा लीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

यह रहे अब लक्ष्य नदियाँ ना करें दूषित कभी,
हर तरफ हो स्वच्छता सरिता बनें निर्मल सभी.
भावना हो पूत पावन ज्ञान ऐसा दीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

स्वास्थ्य शिक्षा हो सभी को स्वच्छता का ज्ञान हो,
स्वच्छता के मूल्य की सबको यहाँ पहचान हो।
स्वच्छता अनमोल है स्वीकार इसको कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

एक -एक मिलें यहाँ तो राष्ट्र बन जायेंगे हम,
खुद बनें यदि स्वच्छ तो यह राष्ट्र कर दें स्वच्छ हम
यह अनोखी योजना साकार इसको कीजिए,
राष्ट्र के उत्थान में कुछ तो पहल अब कीजिए।

शहरी क्षेत्रों के लिए स्वच्छ भारत मिशन – City Area swachh bharat Mission

स्वच्छ भारत मिशन का उद्देश्य 1.04 करोड़ परिवारों को लक्षित करते हुए 2.5 लाख समुदायिक शौचालय, 2.6 लाख सार्वजनिक शौचालय, और प्रत्येक शहर में एक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की सुविधा प्रदान करना है। इस कार्यक्रम के तहत आवासीय क्षेत्रों में जहाँ व्यक्तिगत घरेलू शौचालयों का निर्माण करना मुश्किल है वहाँ सामुदायिक शौचालयों का निर्माण करना हैं । पर्यटन स्थलों, बाजारों, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशनों जैसे प्रमुख स्थानों पर भी सार्वजनिक शौचालय का निर्माण किया जाएगा। यह कार्यक्रम पाँच साल अवधि में 4401 शहरों में लागू किया जाएगा। कार्यक्रम पर खर्च किये जाने वाले 62,009 करोड़ रुपये में केंद्र सरकार की तरफ से 14623 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जाएगें।

केंद्र सरकार द्वारा प्राप्त होने वाले 14623 करोड़ रुपयों में से 7366 करोड़ रुपये ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर,4,165 करोड़ रुपये व्यक्तिगत घरेलू शौचालय
पर,1828 करोड़ रुपये जनजागरूकता पर और समुदाय शौचालय बनवाये जाने पर 655 करोड़ रुपये खर्च किये जाएंगे। इस कार्यक्रम खुले में शौच, अस्वच्छ शौचालयों को फ्लश शौचालय में परिवर्तित करने, मैला ढ़ोने की प्रथा का उन्मूलन करने, नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और स्वस्थ एवं स्वच्छता से जुड़ीं प्रथाओं के संबंध में लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाना आदि शामिल हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों के लिए स्वच्छ भारत मिशन – Clean India mission for rural areas

भारत सरकार ग्रामीण क्षेत्रों की स्वच्छता के लिय निर्मल भारत अभियान कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा हैं | जिसमें लोगों की स्वच्छता सम्बन्धी आदतों को बेहतर बनाना, स्व सुविधाओं की माँग उत्पन्न करना और स्वच्छता सुविधाओं को उपलब्ध करना, जिससे ग्रामीणों के जीवन स्तर को बेहतर बनाया जा सके।

अभियान का उद्देश्य पांच वर्षों में भारत को खुला शौच से मुक्त देश बनाना है। अभियान के तहत देश में लगभग 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों के निर्माण के लिए एक लाख चौंतीस हज़ार करोड़ रुपए खर्च किये जाएंगे। बड़े पैमाने पर प्रौद्योगिकी का उपयोग कर ग्रामीण भारत में कचरे का इस्तेमाल उसे पूंजी का रुप देते हुए जैव उर्वरक और ऊर्जा के विभिन्न रूपों में परिवर्तित करने के लिए किया जाएगा। अभियान को युद्ध स्तर पर प्रारंभ कर ग्रामीण आबादी और स्कूल शिक्षकों और छात्रों के बड़े वर्गों के अलावा प्रत्येक स्तर पर इस प्रयास में देश भर की ग्रामीण पंचायत,पंचायत समिति और जिला परिषद को भी इससे जोड़ना है।

 

स्वच्छ भारत ,सुंदर भारत, प्यारा भारत ,हमारा भारत 

 

 

Popular Topic On Rkalert

Swachh Bharat Mission Swachh Bharat Mission Mahatma Gandhi communicated a quintessential message to the nation throug...


More News Like Our Facebook Page Follow On Google+ And Alert on Twitter Handle


User Also Reading...
RRB NTPC Result 2016 IBPS Clerk Recruitment Rio Olympic 2016
JobAlert Android Apps Punjabi Video
HD Video Health Tips Funny Jokes

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*