February 24, 2017
Latest News Update

26 जनवरी 2017 गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति कविता

Desh Bhakti Poems In Hindi, 26 January 2017,गणतंत्र दिवस पर कविता ,Desh Bhakti Poems,गणतन्त्र दिवस बधाई सन्देश 

विश्व में नाम था नाम रहेगा भारत का सदा सम्मान रहेगा .
जिन शहीदों ने जान लुटाई उनका लबों पर नाम रहेगा .
परचम हमारा प्यारा तिरंगा दुनिया में ऊंचा निशान रहेगा
फौजी हमारे है वीर सिपाही देश इनके हाथों महफूज़ रहेगा

26 January 2017,गणतंत्र दिवस देश भक्ति पर कविता

गर्व है हमे हिंदुस्तान पे
आज़ाद है हम हिंदुस्तान में
जाने कितने हुए घायल कितने हुए शहीद
मर मिटे कितने देश के सेनानी
हुई जाने कितनी माओ का गोद सुनी
बहन थी खड़ी हांथ में लिए राखी
जाने कितने भाइयों की कलाई रह गई सुनी
हटा कर चुन्नी ओढ़ी कितनो ने सफ़ेद साड़ी
अपने सपुत के खून से धरती माँ का सीना हुआ लहू लुहान
सीने में दौरती रही सबके दिलो आज़ादी की चिंगारी
बहुत चला था आंधी बहुत से थे तूफ़ान
गिरते रहे संभलते रहे फिर पा ली हमने आज़ादी I

भारत क्यों तेरी साँसों के, स्वर आहत से लगते हैं,
अभी जियाले परवानों में, आग बहुत-सी बाकी है।
क्यों तेरी आँखों में पानी, आकर ठहरा-ठहरा है,
जब तेरी नदियों की लहरें, डोल-डोल मदमाती हैं।
जो गुज़रा है वह तो कल था, अब तो आज की बातें हैं,
और लड़े जो बेटे तेरे, राज काज की बातें हैं,
चक्रवात पर, भूकंपों पर, कभी किसी का ज़ोर नहीं,
और चली सीमा पर गोली, सभ्य समाज की बातें हैं।

26 जनवरी 2017 गणतन्त्र दिवस बधाई सन्देश

कल फिर तू क्यों, पेट बाँधकर सोया था, मैं सुनता हूँ,
जब तेरे खेतों की बाली, लहर-लहर इतराती है।

अगर बात करनी है उनको, काश्मीर पर करने दो,
अजय अहूजा, अधिकारी, नय्यर, जब्बर को मरने दो,
वो समझौता ए लाहौरी, याद नहीं कर पाएँगे,
भूल कारगिल की गद्दारी, नई मित्रता गढ़ने दो,

ऐसी अटल अवस्था में भी, कल क्यों पल-पल टलता है,
जब मीठी परवेज़ी गोली, गीत सुना बहलाती है।

चलो ये माना थोड़ा गम है, पर किसको न होता है,
जब रातें जगने लगती हैं, तभी सवेरा सोता है,
जो अधिकारों पर बैठे हैं, वह उनका अधिकार ही है,
फसल काटता है कोई, और कोई उसको बोता है।

क्यों तू जीवन जटिल चक्र की, इस उलझन में फँसता है,
जब तेरी गोदी में बिजली कौंध-कौंध मुस्काती है।

Republic Day Desh Bhakti Kavita

गर्व है हमे हिंदुस्तान पे
आज़ाद है हम हिंदुस्तान में
जाने कितने हुए घायल कितने हुए शहीद
मर मिटे कितने देश के सेनानी
हुई जाने कितनी माओ का गोद सुनी
बहन थी खड़ी हांथ में लिए राखी
जाने कितने भाइयों की कलाई रह गई सुनी
हटा कर चुन्नी ओढ़ी कितनो ने सफ़ेद साड़ी
अपने सपुत के खून से धरती माँ का सीना हुआ लहू लुहान
सीने में दौरती रही सबके दिलो आज़ादी की चिंगारी
बहुत चला था आंधी बहुत से थे तूफ़ान
गिरते रहे संभलते रहे फिर पा ली हमने आज़ादी !!

जय जन भारत जन- मन अभिमत

जन गणतंत्र विधाता
जय गणतंत्र विधाता

गौरव भाल हिमालय उज्जवल
हृदय हार गंगा जल
कटि विंध्याचल सिंधु चरण तल
महिमा शाश्वत गाता
जय जन भारत …

हरे खेत लहरें नद-निर्झर
जीवन शोभा उर्वर
विश्व कर्मरत कोटि बाहुकर
अगणित-पद-ध्रुव पथ पर
जय जन भारत …

प्रथम सभ्यता ज्ञाता
साम ध्वनित गुण गाता
जय नव मानवता निर्माता
सत्य अहिंसा दाता

जय हे- जय हे- जय हे
शांति अधिष्ठाता
जय -जन भारत…

गणतंत्र दिवस पर कविता Desh Bhakti Poems Sms

Yeh Paed Yeh Patte Shakeih Bhi Pareshan Ho Jaye ,
Agar Parinde Bhi Hindu Aur Muslman Ho Jaye ,
Na Masjid Ko Jante H Na Shivalyo Ko Jante H ,
Jo Bhukhe Pet Hote H Vo Niwaloo Ko Jante H ,
Mera Yehi Andazz Jamane Ko Khalta H ,
Ki Mera Chirag Hawa K khilaf Kyo Jalta H…
M Aman Pasand Hoo , Mere Shahar M Danga Rhne Do…
Lal Or Hare M Mat Baanto,
Meri Chhat P Tiranga Rhne Do….

vijay vishv tiranga pyaara
aane vaala din hai hamaara

hathiyaaron ki hod machi hai
shanti ahinsa apana naara.
vijayi vishv tiranga pyara..

aasamaan men taare anek
chamakega par apana sitara.
vijayi vishv tiranga pyara..

Popular Topic On Rkalert

Eid al Fitr Quotes and sms messages to wish Ramada... Eid al Fitr Quotes and sms messages to wish Ramadan EID MUBARAK SMS FOR LOVERS, WIFES, HUSBANDS...


More News Like Our Facebook Page Follow On Google+ And Alert on Twitter Handle


User Also Reading...
RRB NTPC Result 2016 IBPS Clerk Recruitment Rio Olympic 2016
JobAlert Android Apps Punjabi Video
HD Video Health Tips Funny Jokes

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*