December 3, 2016
Latest News Update

करवा चौथ व्रत की पूजन विधि सामग्री और कहानी तथा 2016 में कब है , भारत में चौथ माता का मंदिर,

करवा चौथ की पूजा विधि महत्व और शुभ मुहर्त -Karwa Choth Pujan Vidhi

करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भारत के पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान का महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। यह कार्तिक मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। यह पर्व सौभाग्यवती (सुहागिन) स्त्रियाँ या महिलाये मनाती हैं। यह व्रत सुबह सूर्योदय से पहले करीब 4 बजे के बाद शुरू होकर रात में चंद्रमा दर्शन के बाद संपूर्ण होता है।ग्रामीण स्त्रियों से लेकर आधुनिक महिलाओं तक सभी महिलाये अपने पति की लम्बी उम्र व सुख शान्ति के लिए यह व्रत या उपवास बड़े उत्साह के साथ रखती हैं। शास्त्रों के अनुसार यह व्रत कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की चन्द्रोदय व्यापिनी चतुर्थी के दिन करना चाहिए। पति की दीर्घायु एवं अखण्ड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस दिन गणेश जी की भी अर्चना की जाती है। वर्तमान समय में करवाचौथ व्रतोत्सव ज्यादातर महिलाएं अपने परिवार में प्रचलित प्रथा के अनुसार ही मनाती हैं लेकिन अधिकतर स्त्रियां निराहार रहकर चन्द्रोदय की प्रतीक्षा करती हैं।

Must Read – करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में

 इस वर्ष करवा चौथ माता व्रत 19 अक्टूबर 2016 को रखा जाएगा। – Karwa Choth Vart Data and Time

 करवा चौथ व्रत की पूजन विधि सामग्री और कहानी तथा 2016 में कब है , भारत में चौथ माता का मंदिर,

यह व्रत 12 वर्ष तक अथवा 16 वर्ष तक लगातार हर वर्ष किया जाता है। अवधि पूरी होने के पश्चात इस व्रत का उद्यापन किया जाता है। जो सुहागिन स्त्रियाँ आजीवन रखना चाहें वे जीवनभर इस व्रत को कर सकती हैं। इस व्रत के समान सौभाग्यदायक व्रत अन्य कोई दूसरा नहीं है। अतः सुहागिन स्त्रियाँ अपने सुहाग की रक्षा के लिए यह व्रत बड़े हर्ष और उल्लास से करती है ।

Must Read – करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में

करवा चौथ व्रत

करवा चौथ का पूजा मुहूर्त– Karwa Choth Shubha Muhurt

17:43 से 18:59, चंद्रोदय– 20:51, चतुर्थी तिथि आरंभ– 22:47 (18 अक्टूबर), चतुर्थी तिथि समाप्त– 19:32 (19 अक्टूबर)

भारत में चौथ माता जी मंदिर – Karwa Choth Mata Mandir

भारत में चौथ माता जी मंदिर:- भारत देश में वैसे तो चौथ माता जी के कई मंदिर स्थित है, लेकिन सबसे प्राचीन एवं सबसे अधिक ख्याति प्राप्त मंदिर राजस्थान राज्य के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा गाँव में स्थित है । चौथ माता के नाम पर इस गाँव का नाम बरवाड़ा से चौथ का बरवाड़ा पड़ गया । चौथ माता मंदिर की स्थापना महाराजा भीमसिंह चौहान ने की थी ।

Must Read – करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में

करवा चौथ के व्रत की पूजन विधि –  Karwa Choth Poojan Kiase Kren

करवा चौथ के व्रत की पूजन विधि:- इस दिन भगवान शिव-पार्वती, स्वामी कार्तिकेय, गणेश एवं चंद्रमा का पूजन किया जाता है । पूजन करने के लिए बालू की वेदी बनाकर सभी देवों को स्थापित करें।

करवा चौथ पूजा के लिए अवश्यक सामग्री

करवा चौथ व्रत पूजा के लिए अवश्यक सामग्री:- घी गुड दुब रोली मोली चावल फुल सुपारी लोंग इलायची धुप अगरबत्ति घी का दीपक और सबसे अधिक अवश्यक मिट्टी या चीनी का बना करवा जिसको चावल या चीनी से भर लेना चहिये और तांबे का लोटा या मिट्टी के कलश में शुद्ध पानी लेकर प्रातकाल विधि पूर्वक करवा-चौथ और गणेशजी कथा सुनी जाती है और इन सभी देवताओं का पूजन किया जाता है इसके बाद सूर्यदेव को जल चढाकर अर्क दिया जाता है।रात को चाँद के उदित हो जाने पर चंद्रमा का पूजन कर अर्क दिया जाता है और अपने पति के हाथों से पानी का घूट पीकर व्रत खोला जाता है ।इसके पश्चात ब्राह्मण, सुहागिन स्त्रियों व पति के माता-पिता को भोजन कराएँ। भोजन के पश्चात ब्राह्मणों को यथाशक्ति दक्षिणा दें।सासुजी को करवा और वस्त्र देकर चरण छु कर आशीर्वाद लें। यदि वे जीवित न हों तो उनके तुल्य किसी अन्य स्त्री को भेंट करे।

करवा-चौथ-व्रत-की-पूजन-विधि-सामग्री-और-कहानी-तथा-2016-में-कब-है

करवा-चौथ की कहानी – Karwa Choth Kahani – Story Of Karwa Chouth

करवा-चौथ की कहानी:- बहुत समय पहले की बात है, एक साहूकार के सात बेटे और उनकी एक बहन जिसका नाम करवा था। सभी सातों भाई अपनी बहन से बहुत प्यार करते थे। यहाँ तक कि वे पहले उसे खाना खिलाते और बाद में स्वयं खाते थे। एक बार उनकी बहन ससुराल से मायके आई हुई थी।
शाम को भाई जब घर आए तो देखा उनकी बहन बहुत व्याकुल थी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का व्रत है और वह खाना चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है। चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल हो उठी है।

सबसे छोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं जाती और वह दूर पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे चतुर्थी का चाँद उदित हो रहा हो।इसके बाद भाई अपनी बहन को बताता है कि चाँद निकल आया है, तुम उसे अर्क देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चाँद को देखती है, उसे अर्घ्‍य देकर खाना खाने बैठ जाती है।वह पहला टुकड़ा मुँह में डालती है तो उसे छींक आ जाती है। दूसरा टुकड़ा डालती है तो उसमें बाल निकल आता है और जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुँह में डालने की कोशिश करती है तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है।

करवा की भाभियाँ उसे सारी सच्चाई बताती है । सच्चाई जानने के बाद करवा निश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देगी और अपने सतीत्व से उसे पुनः जीवित करके रहेगी। वह पूरे एक साल तक अपने पति के शव के पास बैठी रहती है। उसकी देखभाल करती है। एक साल बाद फिर चौथ का व्रत आया तो करवा की भाभिया उससे मिलने गई अपनी ननद की यह दशा देखकर वे सभी बहुत दुखी हुई और अपनी ननद से कहा की तुम्हारा सुहाग चोथ माता ने लिया है वही तुम्हे सुहाग देगी आज चौथ का व्रत और सभी के घरो में चौथ माता आयेगी ।

जब चौथ माता यहाँ आये तो तुम उसके पॉव पकड़ लेना और उनसे क्षमा याचना करना अपने सुहाग की भीख मागंना चौथ माता ही तुम्हारे पति को दोबारा जीवित कर सकती है।और जब चौथ माता आई तो करवा ने उसके पॉव पकड़ लिये और सुहाग को जीवित की याचना करने लगीं चौथ माता को दया आ गई और अपनी छोटी अँगुली को चीरकर उसमें से अमृत उसके पति के मुँह में डाल देती है। करवा का पति तुरंत श्रीगणेश कहता हुआ उठ बैठता है।

Must Read – करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में

इस प्रकार चौथ माता के आशीर्वाद से करवा को अपना सुहाग वापस मिल जाता है। हे चौथ माता जिस प्रकार करवा को चिर सुहागन का वरदान आपसे मिला है, वैसा ही सब सुहागिनों को मिले।

शनि देव के दुष्परिणाम उनके उपाय और पूजन विधि के लिए यहा पर क्लिक करो


karva chauth,करवा चौथ 2016,करवा चौथ कब है 2016,करवा चौथ कब है 2016 से संबंधित खोज,करवा चौथ की कहानी,करवा चौथ की पूजन सामग्री,करवा चौथ की फोटो,करवा चौथ व्रत की पूजन विधि,करवा चौथ शायरी,व्रत-त्योहार,तीज का त्योहार कब है,करवा चौथ 2017,करवा चौथ कब है 2017,भारत में चौथ माता जी मंदिर,करवा चौथ के व्रत की पूजन विधि,पूजा के लिए अवश्यक सामग्री,करवा-चौथ की कहानी,

Popular Topic On Rkalert

करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में... करवा चौथ पर शायरी और चुटकले हिंदी में SMS, Happy Karva Chauth 2016 Shayari, Love Shayari For Wife ...


More News Like Our Facebook Page Follow On Google+ And Alert on Twitter Handle


User Also Reading...
RRB NTPC Result 2016 IBPS Clerk Recruitment Rio Olympic 2016
JobAlert Android Apps Punjabi Video
HD Video Health Tips Funny Jokes

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Read All Entertainment And Education Update in Hindi