December 9, 2016
Latest News Update

Google Birthday Celebration For Popular Singer Mukesh

Google Birthday Celebration For Popular Singer Mukesh

Google Birthday Celebration For Popular Singer Mukesh

Google Birthday Celebration For Popular Singer Mukesh

Top 10 SONGS FOR MUKESH HAPPY BIRTHDAY DAY

खूबसूरत नगमों के सरताज मुकेश माथुर को उनके 93वें जन्मदिन पर गूगल ने डूडल बनाकर याद किया है।

  • दोस्त-दोस्त ना रहा
  • जीना यहां मरना यहां
  • कहता है जोकर दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई आवारा हूं
  • मेरा जूता है जापानी

जैसे नगमों के सरताज मुकेश की आवाज की दीवानी पूरी दुनिया है। उन्होंने अपनी दर्दभरी सुरीली आवाज से सबके दिल में अपना खास मुकाम बनाया।

मुकेश के जन्मदिन पर सुनिए उनके मशहूर गाने 

ये हैं मुकेश के टॉप 10 गाने

1. दोस्त-दोस्त ना रहा

2. जीना यहां मरना यहां

3. कहता है जोकर सारा जमाना

4. दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई

5. आवारा हूं

6. मेरा जूता है जापानी

7. ‘ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना

8. ये मेरा दीवानापन’

9. कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है

10. एक दिन बिक जाएगा माटी के मोल, जग में रह जाएंगे प्यारे तेरे बोल………

जानिए मुकेश माथुर के बारे में सबकुछ –

मुकेश ने 40 साल के लंबे करियर में लगभग 200 से अधिक फिल्मों के लिए गीत गाए। मुकेश हर सुपरस्टार की आवाज बने। उनके गाए गीतों को लोग आज भी गुनगुनाते हैं। उनके गीत हमारी रोजमर्रा की जिंदगी से कहीं न कहीं जुड़ते हैं और यही नहीं, उनके गाए नगमें आज के नए गीतों को टक्कर देते हैं, रीमिक्स भी बनता है।

मुकेश का जन्म 22 जुलाई, 1923 को दिल्ली में हुआ था। मुकेश के पिता जोरावर चंद्र माथुर इंजीनियर थे। मुकेश उनके 10 बच्चों में छठे नंबर पर थे। उन्होंने दसवीं तक पढ़ाई कर पीडब्लूडी में नौकरी शुरू की थी। कुछ ही साल बाद किस्मत उन्हें मायानगरी मुंबई ले गई।

मुकेश अपने सहपाठियों के बीच कुंदन लालसहगल के गीत सुनाया करते थे और उन्हें अपने स्वरों से सराबोर किया करते थे, लेकिन वह मधुर स्वर के रूप में एक अनूठा तोहफा लेकर पैदा हुए थे। उनका स्वर महज सहपाठियों के बीच गाने भर के लिए नहीं, बल्कि लाखों-करोड़ों लोगों के होंठों और दिल में बस जाने के लिए था।

मुकेश को एक गुजराती लड़की सरल भा गई थी। वह उसी से शादी करना चाहते थे, लेकिन दोनों परिवार में इसका विरोध हुआ। उन्होंने दोनों परिवारों के तमाम बंधनों की परवाह न करते हुए ठीक अपने जन्मदिन के दिन 22 जुलाई 1946 को सरल के साथ शादी के अटूट बंधन में बंध गए। मुकेश के एक बेटा और दो बेटियां हैं। बेटे का नाम नितिन और बेटियां रीटा व नलिनी हैं।

बड़ा होने पर नितिन अपने नाम में पिता का नाम जोड़कर नितिन मुकेश हो गए। उन्होंने पिता की तरह कई फिल्मों के लिए गाया भी। उनके बेटे यानी मुकेश के पोते नील के नाम में पिता और दादा, दानों के नाम जुड़े हैं। नील नितिन मुकेश लेकिन गाना नहीं गाते, वह आज बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता हैं।

मुकेश की आवाज की खूबी को उनके एक दूर के रिश्तेदार मोतीलाल ने तब पहचाना, जब उन्होंने उन्हें अपनी बहन की शादी में गाते हुए सुना। मोतीलाल उन्हें बंबई ले गए और अपने घर में साथ रखा।

मुकेश ने अपना सफर 1941 में शुरू हुआ। फिल्म ‘निर्दोष’ में मुकेश ने अदाकारी करने के साथ-साथ गाने भी खुद गाए। इसके अलावा, उन्होंने ‘माशूका, आह, अनुराग‘ और ‘दुल्हन‘ में भी बतौर अभिनेता काम किया। उन्होंने अपने करियर में सबसे पहला गाना ‘दिल ही बुझा हुआ हो तो‘ गाया था। इसमें कोई शक नहीं कि मुकेश सुरीली आवाज के मालिक थे और यही वजह है कि उनके चाहने वाले सिर्फ हिंदुस्तान ही नहीं, बल्कि दुनिया भर के संगीत प्रेमी थे।

फिल्म-उद्योग में उनका शुरुआती दौर मुश्किलों भरा था। लेकिन एक दिन उनकी आवाज का जादू के.एल. सहगल पर चल गया। मुकेश का गाना सुनकर सहगल भी अचंभे में पड़ गए थे। 4० के दशक में मुकेश के पार्श्व गायन का अपना अनोखा तरीका था। उस दौर में मुकेश की आवाज में सबसे ज्यादा गीत दिलीप कुमार पर फिल्माए गए। वहीं 50 के दशक में मुकेश को शोमैन ‘राज कपूर की आवाज’ कहा जाने लगा।

राज कपूर और मुकेश में काफी अच्छी दोस्ती थी। उनकी दोस्ती स्टूडियो तक ही नहीं थी। मुश्किल दौर में राज कपूर और मुकेश हमेशा एक-दूसरे की मदद को तैयार रहते थे। उन्होंने 1951 की फिल्म ‘मल्हार’ और 1956 की ‘अनुराग’ में निर्माता के तौर पर काम किया। मुकेश को बचपन से ही अभिनय का शौक था, जिसके चलते वह फिल्म ‘माशूका’ और ‘अनुराग’ में बतौर हीरो भी नजर आए। लेकिन दोनों फिल्में फ्लॉप हो गईं और उन्हें आर्थिक तंगी से जूझना पड़ा।

साल 1959 में ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म ‘अनाड़ी’ ने राज कपूर को पहला फिल्मफेयर अवॉर्ड दिलाया। लेकिन कम ही लोगों को पता है कि राज कपूर के जिगरी यार मुकेश को भी अनाड़ी फिल्म के ‘सब कुछ सीखा हमने न सीखी होशियारी’ गाने के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का फिल्मफेयर अवार्ड मिला था।

मुकेश ने 200 से ज्यादा फिल्मों को अपनी आवाज दी। उन्होंने हर तरीके के गाने गाए, लेकिन उन्हें दर्द भरे गीतों से अधिक पहचान मिली, क्योंकि दिल से गाए हुए गीत लोगों के जेहन में ऐसे उतरे कि लोग उन्हें आज भी याद करते हैं। ‘दर्द का बादशाह’ कहे जाने वाले मुकेश ने ‘अगर जिंदा हूं मैं इस तरह से ये मेरा दीवानापन है ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना,दोस्त दोस्त ना रहा,जैसे कई गीतों को अपनी आवाज दी।

मुकेश फिल्मफेयर पुरस्कार पाने वाले पहले पुरुष गायक थे। उन्हें फिल्म ‘अनाड़ी’ से ‘सब कुछ सीखा हमने’, 1970 में फिल्म ‘पहचान’ से ‘सबसे बड़ा नादान वही है’, 1972 में ‘बेइमान’ से ‘जय बोलो बेईमान की जय बोलो’ के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजा गया।

फिल्म 1974 में ‘रजनीगंधा’ से ‘कई बार यूं भी देखा है’ के लिए नेशनल पुरस्कार, 1976 में ‘कभी कभी’ से ‘कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है’ के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किया है।

मुकेश का निधन 27 अगस्त, 1976 को अमेरिका में एक स्टेज शो के दौरान दिल का दौरा पड़ने से हुआ।स समय वह गा रहे थे ,एक दिन बिक जाएगा माटी के मोल, जग में रह जाएंगे प्यारे तेरे बोल‘। दुनिया को अलविदा कह चुके मुकेश के गाए बोल जग में आज भी गूंज रहे हैं।
————-

 

Popular Topic On Rkalert

Shekhar Kapur’s daughter Kaveri records her ... Shekhar Kapur's daughter Kaveri records her first Song Did You Know Shekhar Kapur’s daughter ...


More News Like Our Facebook Page Follow On Google+ And Alert on Twitter Handle


User Also Reading...
RRB NTPC Result 2016 IBPS Clerk Recruitment Rio Olympic 2016
JobAlert Android Apps Punjabi Video
HD Video Health Tips Funny Jokes

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*