स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त वतन-परस्ती देश-भक्ति शायरी

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त देश भक्ति शायरी

 मेरा देश महान मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर वतन-परस्ती देश-भक्ति शायरी

– आजादी की शायरी

अपने मंसूबों को नाकाम नहीं करना है
मुझको इस उम्र में आराम नहीं करना है

अपनी चाहत का यूँ पता देना
सामना हो तो मुस्करा देना

अब तो मजहब कोई ऐसा चलाया जाए
जिसमें इंसान को इंसान बनाया जाए

इस जहाँ में प्यार महके जिंदगी बाकी रहे
ये दुआ मांगो दिलों में रोशनी बाकी रहे

अपना ग़म लेके कही और न जाया जाए
घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाए

अबके सावन में शरारत ये मेरे साथ हुई
मेरा घर छोड़कर कुल शहर में बरसात हुई

अपने खेतों से बिछड़ने की सज़ा पाता हूं
अब मैं राशन की क़तारों में नज़र आता हूं ————–जय हिन्द ।।

देश-भक्ति शायरी

बस ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने,
उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना

मुझे तन चाहिए , ना मुझे धन चाहिए,
बस अमन से भरा मेरा वतन चाहिए,
जिन्दा रहूं तो इस मातृ-भूमि के लिए,
और जब मरू तो तिरंगा कफ़न चाहिये

जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं,
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं,
देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई ?
उनके बलिदान का कर्ज देश पर उधर है,
आप और हम इसलिए खुशहाल है क्योकि,
सीमा पर सपूत बलिदान को तैयार है

है लिये हथियार दुश्मन ताक में बैठा उधर,
और हम तैयार हैं सीना लिये अपना इधर।
खून से खेलेंगे होली अगर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है————–जय हिन्द ।।

शहीदों पर शायरी

यहाँ आरती है अज़ान है, हिन्दू हैं मुसलमान हैं,
है गर्व मुझे इस देश पर क्यूंकि ये मेरा हिन्दुस्तान है ।

आजाद, भगत सिंह जैसे इस देश में जन्में वीर यहाँ
कुर्बानी की इनकी गाथाएं गता है ये सारा जहाँ।

भ्रष्टाचार, बेरोजगारी जैसे पापों का जब पतन होगा
हो जाएगा खुशहाल ये जीवन खुशहाल ये मेरा वतन होगा ।

हाथ जोड़कर नमन जो करते, मत समझो कि कमजोर हैं
हम उठाओ कथायें जो इतिहास की छाये हुए हर ओर हैं हम।

सच्चाई की राह पर चलते नहीं मन में कोई बुरी भावना
उन्नत हो ये देश हमारा अपनी तो बस यही कामना।

वतन पर शायरी

आओ झुकर सलाम करे उनको जिनके हिस्से मे ये मुकाम आता है
खुसनसीब है वो खून जा देश के काम आता है ।

जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं
देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते है ।

कभी सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना ।

कर जस्बे को बुलंद जवान
तेरे पीछे खड़ी आवाम
हर पत्ते को मार गिरायेंगे
जो हमसे देश बटवायेंगे ।

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता ।

You Must Read

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस मेसेज सायरी... स्वतंत्रता दिवस पर वतन परस्ती मेसेज सायरी स्वतंत्रता दिवस मेसेज सायरी कविता कुछ नशा तिरंगे के आन...
Raksabandhana Festival on Brother And Sister Messa... रक्षाबन्धन त्यौहार पर भाई बहिन के मुबारक जोक्स मेसेज और सायरी रक्षाबन्धन पर भाई बहिन पर मेसेज और ...
अंजलि राघव हरियाणा मॉडल जीवन परिचय... अंजली राघव का जीवन परिचय अंजली राघव जीवनी नमस्ते दोस्तों हरियाणा के मॉडल अभिनेत्री अंजली राघव की...
सोशल मिडिया पर वायरल आलिया भट्ट का funny Jokes... GST पर आलिया भट्ट का  funny Jokes वायरल आलिया भट्ट का funny Jokes G - Good Night S - Sweet Dr...
जुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर दिवस 7 अगस्त 2017 जीवन... गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर जीवनी महत्वपूर्ण अनमोल वचन जुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर जीवन परिचय नाम  :...
देशभक्ति चंद्रशेखर आज़ाद जयंती 23 जुलाई 2017 जीवन ... देशभक्ति चंद्रशेखर आज़ाद जयंती 23 जुलाई 2017 चंद्रशेखर आजाद जीवन परिचय पूरा नाम - पण्डित चंद्रशे...
Raksha Bandhan festival Hearty Best wishes Message... रक्षाबंधन त्योहार पर हार्दिक शुभकामनाएं मेसेज और सायरी रक्षाबंधन त्योहार पर हार्दिक शुभकामनाएं मे...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *