देशभक्ति चंद्रशेखर आज़ाद जयंती 23 जुलाई 2017 जीवन परिचय निबन्ध

देशभक्ति चंद्रशेखर आज़ाद जयंती 23 जुलाई 2017

चंद्रशेखर आज़ाद जयंती 23 जुलाई 2017

चंद्रशेखर आजाद जीवन परिचय

पूरा नाम – पण्डित चंद्रशेखर आजाद
उपनाम  – आजाद – पण्डित जी – बलराज
जन्मस्थल – भाबरा गाव चन्द्र्शेखर आज़ादनगर (वर्तमान) अलीराजपुर जिला में 23 जुलाई सन् 1906 को हुआ था मृत्यु 27 फ़रवरी, 1931
मृत्युस्थल – चन्द्रशेखर आजाद पार्क, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश
पूर्वज – बदरका (वर्तमान उन्नाव जिला) से थे
पिता – पण्डित सीताराम तिवारी
माँ का नाम – जगरानी देवी था।
आन्दोलन- भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम
प्रमुख संगठन – हिदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसियेशन-के प्रमुख सेनापति

जन्म तथा प्रारम्भिक जीवन

चन्द्रशेखर आजाद का जन्म भाबरा गाँव ,अब चन्द्रशेखर आजादनगर ,वर्तमान अलीराजपुर जिला में 23 जुलाई सन् 1906 को हुआ था।उनके पूर्वज बदरका वर्तमान उन्नाव जिला से थे। आजाद के पिता पण्डित सीताराम तिवारी संवत् 1956 में अकाल के समय अपने पैतृक निवास बदरका को छोड़कर पहले कुछ दिनों मध्य प्रदेश अलीराजपुर रियासत में नौकरी करते रहे फिर जाकर भाबरा गाँव में बस गये। यहीं बालक चन्द्रशेखर का बचपन बीता। उनकी माँ का नाम जगरानी देवी था। आजाद का प्रारम्भिक जीवन आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में स्थित भाबरा गाँव में बीता अतएव बचपन में आजाद ने भील बालकों के साथ खूब धनुष बाण चलाये। इस प्रकार उन्होंने निशानेबाजी बचपन में ही सीख ली थी। बालक चन्द्रशेखर आज़ाद का मन अब देश को आज़ाद कराने के अहिंसात्मक उपायों से हटकर सशस्त्र क्रान्ति की ओर मुड़ गया। उस समय बनारस क्रान्तिकारियों का गढ़ था। वह मन्मथनाथ गुप्त और प्रणवेश चटर्जी के सम्पर्क में आये और क्रान्तिकारी दल के सदस्य बन गये। क्रान्तिकारियों का वह दल “हिन्दुस्तान प्रजातन्त्र संघ” के नाम से जाना जाता था।

पंडित चंद्रशेखर आज़ाद भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध क्रांतिकारी थे। 17 वर्ष के चंद्रशेखर आज़ाद क्रांतिकारी दल ‘हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ में सम्मिलित हो गए दल में उनका नाम ‘क्विक सिल्वर’ पारा तय पाया गया पार्टी की ओर से धन एकत्र करने के लिए जितने भी कार्य हुए चंद्रशेखर उन सबमें आगे रहे। सांडर्स वध, सेण्ट्रल असेम्बली में भगत सिंह द्वारा बम फेंकना, वाइसराय की ट्रेन बम से उड़ाने की चेष्टा, सबके नेता वही थे। इससे पूर्व उन्होंने प्रसिद्ध ‘काकोरी कांड’ में सक्रिय भाग लिया और पुलिस की आंखों में धूल झोंककर फरार हो गए। एक बार दल के लिये धन प्राप्त करने के उद्देश्य से वे गाजीपुर के एक महंत के शिष्य भी बने। इरादा था कि महंत के मरने के बाद मरु की सारी संपत्ति दल को दे देंगे।

चंद्रशेखर आज़ाद पहली घटना

1919 में हुए अमृतसर के जलियांवाला बाग नरसंहार ने देश के नवयुवकों को उद्वेलित कर दिय चन्द्रशेखर उस समय पढाई कर रहे थे। जब गांधीजी ने सन् 1921 में असहयोग आन्दोलनका फरमान जारी किया तो वह आग ज्वालामुखी बनकर फट पड़ी और तमाम अन्य छात्रों की भाँति चन्द्रशेखर भी सडकों पर उतर आये। अपने विद्यालय के छात्रों के जत्थे के साथ इस आन्दोलन में भाग लेने पर वे पहली बार गिरफ़्तार हुए और उन्हें 15 बेतों की सज़ा मिली। इस घटना का उल्लेख पं० जवाहरलाल नेहरू ने कायदा तोड़ने वाले एक छोटे से लड़के की कहानी के रूप में किया है ऐसे ही कायदे कानून तोड़ने के लिये एक छोटे से लड़के को जिसकी उम्र 15 या 16 साल की थी और जो अपने को आज़ाद कहता था उसे बेंत की सजा दी गयी उसे नंगा किया गया और बेंत की टिकटी से बाँध दिया गया। जैसे-जैसे बेंत उस पर पड़ते थे और उसकी चमड़ी उधेड़ डालते थे वह ‘भारत माता की जय!’ चिल्लाता था हर बेंत के साथ वह लड़का तब तक यही नारा लगाता रहा, जब तक वह बेहोश न हो गया। बाद में वही लड़का उत्तर भारत के क्रान्तिकारी कार्यों के दल का एक बड़ा नेता बना।

झांसी में क्रांतिकारी गतिविधियां

चंद्रशेखर आजाद ने एक निर्धारित समय के लिए झांसी को अपना गढ़ बना लिया. झांसी से पंद्रह किलोमीटर दूर ओरछा के जंगलों में वह अपने साथियों के साथ निशानेबाजी किया करते थे. अचूक निशानेबाज होने के कारण चंद्रशेखर आजाद दूसरे क्रांतिकारियों को प्रशिक्षण देने के साथ-साथ पंडित हरिशंकर ब्रह्मचारी के छ्द्म नाम से बच्चों के अध्यापन का कार्य भी करते थे. वह धिमारपुर गांव में अपने इसी छद्म नाम से स्थानीय लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हो गए थे. झांसी में रहते हुए चंद्रशेखर आजाद ने गाड़ी चलानी भी सीख ली थी

चंद्रशेखर आजाद और भगत सिंह

1925 में हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन की स्थापना की गई. 1925 में काकोरी कांड हुआ जिसके आरोप में अशफाक उल्ला खां, बिस्मिल समेत अन्य मुख्य क्रांतिकारियों को मौत की सजा सुनाई गई. जिसके बाद चंद्रशेखर ने इस संस्था का पुनर्गठन किया. भगवतीचरण वोहरा के संपर्क में आने के बाद चंद्रशेखर आजाद भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु के भी निकट आ गए थे. इसके बाद भगत सिंह के साथ मिलकर चंद्रशेखर आजाद ने अंग्रेजी हुकूमत को डराने और भारत से खदेड़ने का हर संभव प्रयास किया.

चंद्रशेखर आज़ाद का आत्म-बलिदान

फरवरी 1931 में जब चंद्रशेखर आज़ाद गणेश शंकर विद्यार्थी से मिलने सीतापुर जेल गए तो विद्यार्थी ने उन्हें इलाहाबाद जाकर जवाहर लाल नेहरू से मिलने को कहा। चंद्रशेखर आजाद जब नेहरू से मिलने आनंद भवन गए तो उन्होंने चंद्रशेखर की बात सुनने से भी इनकार कर दिया। गुस्से में वहाँ से निकलकर चंद्रशेखर आजाद अपने साथी सुखदेव राज के साथ एल्फ्रेड पार्क चले गए। वे सुखदेव के साथ आगामी योजनाओं के विषय पर विचार-विमर्श कर ही रहे थे कि पुलिस ने उन्हें घेर लिया आज़ाद ने अपनी जेब से पिस्तौल निकालकर गोलियां दागनी शुरू कर दी। आज़ाद ने सुखदेव को तो भगा दिया पर स्वयं अंग्रेजों का अकेले ही सामना करते रहे। दोनों ओर से गोलीबारी हुई लेकिन जब चंद्रशेखर के पास मात्र एक ही गोली शेष रह गई तो उन्हें पुलिस का सामना करना मुश्किल लगा। चंद्रशेखर आज़ाद ने यह प्रण लिया हुआ था कि वह कभी भी जीवित पुलिस के हाथ नहीं आएंगे। इसी प्रण को निभाते हुए एल्फ्रेड पार्क में 27 फरवरी 1931 को उन्होंने वह बची हुई गोली स्वयं पर दाग के आत्म बलिदान कर लिया।

पुलिस के अंदर चंद्रशेखर आजाद का भय इतना था कि किसी को भी उनके मृत शरीर के के पास जाने तक की हिम्मत नहीं थी। उनके मृत शरीर पर गोलियाँ चलाकर पूरी तरह आश्वस्त होने के बाद ही चंद्रशेखर की मृत्यु की पुष्टि की गई।बाद में स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात जिस पार्क में उनका निधन हुआ था उसका नाम परिवर्तित कर चंद्रशेखर आजाद पार्क और मध्य प्रदेश के जिस गांव में वह रहे थे उसका धिमारपुरा नाम बदलकर आजादपुरा रखा गया।

You Must Read

जीवन को बदलने वाले अनमोल विचार ,सत्य वचन, सफलता के... जीवन को बदलने वाले अनमोल विचार ,सत्य वचन, सफलता के प्रेरणादायक अनमोल वचन सफलता के अनमोल सत्य वचन ...
Murari Ki Cocktail Full HD Video MP4 Download 2017 दोस्तों आज हम फिर से (Murari Ki Kocktail) मुरली कि कोकटेल youtube चेनल पर एक और विडियो उपलोड कि गयी ...
Chhori Bindass Sapna Dance Mp4 Full Hd Video Song ... Sapna New hot Video Song Chhori Bindass Full Hd Video Download Latest Sapna Bindass Chhori Video Son...
15 अगस्त पर कविता देशभक्ति शायरी मेसेज शहीदों पर ... भारतीय आजादी दिवस पर शहीदों पर शायरी आजादी पर शायरी स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त देशभक्ति शायरी SMS ...
Good Night SMS Jokes In Hindi Funny Good Night Ima... जब रात को नींद ना आये | Jab raat ko neend na aaye, dil ki dhadkan bhi badh jaaye, tab dusron ki n...
अक्षय तृतीया आखातीज 28 अप्रैल से शुरू होंगे मांगलि... अक्षय तृतीया आखातीज 28 अप्रेल 2017 भारत देश में जितना त्यौहारो का महत्व हैं उतना ही तिथियों का भी...
Dr S Radhakrishnan Biography in Hindi डॉ. राधाकृष्... भारत के दूसरे राष्ट्रपति, 1954 में भारत रत्न से सम्मानित, Nobel Prize for Literature के लिए लगातार प...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *